Poems

Sleep v/s Sleeplessness

Entry for Saarang Poetry Writing 2010. Sleep. Magical sojourn. Eyelids take over Engulfing every intimate sense. Heaven. Sleeplessness. Invincible irritation. Motionless blank eyes Blocking even common sense. Hell. Sleep. Unlimited dreams. The soul surrenders To the ultimate experience. Paradise. Sleeplessness. Unfulfilled dreams. The body becomes A slave of agony. Graveyard. Sleep. A boon. The mind… Continue reading Sleep v/s Sleeplessness

Poems

मेरे जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण दिन

वह लम्हा, उस घड़ी के आने की देरी थी, आज जीवन ने एक अजीब दासता घेरी थी I वर्षों बाद मैंने जिस अहसास को पाया था, उस स्वर्ण पल के लिए मैंने दिन-दिन संजोया था‌‍ I डरती थी कुछ और ही ना हो जाए, यह अटूट विश्वास कहीं खो ना जाए, कोई अचंभा मुझसे टकरा… Continue reading मेरे जीवन का सबसे महत्त्वपूर्ण दिन